National Pension System (NPS) details. क्या है, नेशनल पेंशन सिस्टम ??

new pension scheme details , nps 2004


What is  NPS (National Pension Scheme or New pension System)..??

अगर आप भी रिटायरमेंट के बाद अपने भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं, तो NPS (National Pension System or New Pension System) एक अच्छा विकल्प हो सकता है. इस आर्टिकल के जरिये हम आपको NPS (National Pension System or New Pension System) से जुड़े हर सवाल और शंका का जबाब दें रहें हैं, कृपया ध्यान से पढ़े, और आज ही NPS (National Pension Scheme or New pension System) से जुड़कर अपना भविष्य सुरक्षित करें.
साथ ही यह आर्टिकल अपने सभी शुभचिंतको तक भी जरुर पहुचाये. जिससे वो भी NPS (National Pension Scheme or New pension System) के बारें में जान सकें.

बुढ़ापे का सहारा है, NPS (New Pension Scheme)
 NPS एक तरह का खाता है, जिसमे सब्सक्राइबर दो तरह (TIER-1 और TIER-2) के खाते खोल सकता है. दोनों में ही सब्सक्राइबर को हर महीने एक निश्चित रकम जमा करनी होती है, TIER-1 खाता आपको withdrawal की आंशिक आज़ादी देता है, जबकि TIER-2 withdrawal की 100 प्रतिशत आज़ादी देता है. केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए TIER-1 खाता अनिवार्य है, जिसमे हर महीने उनकी सैलरी का 10 प्रतिशत उनके NPS(National Pension Scheme or New pension System) खाते में चला जाता है, और इतनी ही रकम सरकार द्वारा सब्सक्राइबर के NPS(National Pension Scheme or New pension System) खाते में जमा की जाती है.

राष्ट्रीय पेंशन योजना का इतिहास.
History of NPS (National Pension System or New Pension System)
10 अक्टूबर 2003 को PFRDA (Pension Fund regulatory and devlopment authority) पेंशन फण्ड नियामक एवं विकास प्राधिकरण की स्थापना के साथ ही सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली पुरानी पेंशन को बंद करने की आधारशिला पड़ गई. वर्तमान अटल सरकार ने PFRDA के जरिये 1 जनवरी 2004 के बाद ज्वाइन करने वाले सभी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन को खत्म करते हुए NPS (National Pension System or New Pension System)लागू कर दी.  
जो 1 मई 2009 से यह सभी के लिए खोल दी गई. वर्तमान NPS (National Pension System or New pension System) के लिए देश के सभी नागरिक (डिफेन्स को छोड़कर) पात्र हैं, इसे भले ही पेंशन का नाम दिया गया है, लेकिन हकीक़त में यह एक पेंशन इन्वेस्टमेंट प्लान है.
कौन कौन है पात्र??
Who is eligible for NPS (National Pension Scheme or New pension Scheme).??
देश के सभी नागरिक NPS (National Pension System or New pension System) के लिए पात्र हैं.
1- केंद्र सरकार के कर्मचारी
वर्तमान मॉडल के तहत केन्द्रीय कर्मचारियों के लिए NPS (National Pension System or New pension System) से जुड़ना अनिवार्य है. इसके लिए उनकी सैलरी से हर महीने 10 प्रतिशत रकम काटी जाती है, और इतना ही अंशदान सरकार करती है.
2- राज्य सरकार के कर्मचारी
भारत के किसी भी राज्य के कर्मचारी NPS (National Pension System or New pension System) से जुड़ सकते हैं, जिसके लिए उन्हें राज्य सरकार से परमिशन की जरूरत होती है.
3-अन्य सरकारी कर्मचारी असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोग.
केंद्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों के अलाबा ऐसे सरकारी कर्मचारी या नागरिक जो स्वत: NPS(National Pension Scheme)  के दायरे में नहीं आते हैं, वह भी POP-SP (पॉइंट ऑफ प्रेसेंस-सर्विस प्रोवाइडर) के जरिये NPS (National Pension System or New Pension System)  से जुड़ सकतें हैं.

कैसे जुड़े NPS (National Pension Scheme or New pension Scheme)  से..?     How to join NPS
NPS (National Pension Scheme or New pension System)के लिए आप offline या online दोनों तरह से अप्लाई कर सकते हैं.
Offline Application For NPS
NPS (National Pension Scheme or New pension Scheme) से जुड़ने के लिए सबसे पहले PRAN ( Permanent Retirement Account Number) की जरुरत होती है. इसके लिए आपको एक PRAN एप्लीकेशन फॉर्म की भरना होता है, जो आपको किसी भी POP-SP (Point of Presence service Provider) जो सामान्यता देश के सभी सरकारी बैंको की सभी शाखाओं को बनाया गया है, से प्राप्त कर सकते हैं. या आप PRAN ( Permanent Retirement Account Number) फॉर्म घर बैठे NSDL की वेबसाइट https://www.npscra.nsdl.co.in/  से भी डाउनलोड कर सकते हैं.


Online Application for NPS
 ऑनलाइन एप्लीकेशन के जरिये घर बैठे ही अपना NPS (National Pension System or New Pension System) खाता खोल सकतें हैं इसक लिये आपको NSDL के eNPS पोर्टल पर जाना होगा, जिसका लिंक नीचे दिया गया है. . link- https://enps.nsdl.com/eNPS/NationalPensionSystem.html जैसे ही आप NPS में जुड़ते है, आपको एक यूनिक PRAN (Permanent Retirement Account Number) जारी कर दिया जाता है. एक बार PRAN GENERATE होने के बाद, यह आधार कार्ड की तरह पुरे देश में लागू रहता है और पूरी जिंदगी एक ही रहता है.

क्या क्या डाक्यूमेंट्स चाहिए.
Documents Required for NPS Account
PRAN application के लिए आपको बैंक अकाउंट की डिटेल्स, पूरा भरा हुआ PRAN एप्लीकेशन फॉर्म, एक फोटो एक एड्रेस प्रूफ और KYC के लिए एक ID प्रूफ के साथ देश के किसी भी बैंक में मौजूद POP-SP(Point of Presence service Provider)  में जमाकर आप NPS (National Pension scheme) को सब्सक्राइब कर सकते हैं. जैसे ही आपके फॉर्म प्रोसेस हो जायेगा. आपका PRAN नम्बर स्वत: ही आपके orrespondence ddress पर जाएगा.
कहाँ इन्वेस्ट होती है, NPS (National Pension System or New Pension System) के तहत  जमा राशि.
NPS (National Pension System or New Pension System)में जमा की गई राशि का प्रबंध PFRDA द्वारा अधिकृत 7 फण्ड प्रबंधको LIC Pension plan, SBI Pension Plan, UTI Retirement Solutions, SBI Pension Fund, ICICI Prudential Pension, IDFC Pension, kotak mahindra pension, reliance capital pension द्वारा किया जाता है, PFRDA द्वारा अधिकृत यह फण्ड प्रबंधक NPS में जमा रकम को PFRDA के नियमों और निर्देशों के अनुसार अलग-2 पोर्टफोलियो (ज्यादातर म्यूच्यूअल फण्ड, पेंशन फण्ड, बिमा फण्ड) में किया करतें है. खाता खोलते समय सब्सक्राइबर को फण्ड मेनेजर चुनने की आज़ादी प्रदान की जाती है.

NPS (National Pension System or New Pension System) के प्रकार
Types of NPS Accounts
इसके तहत दो तरह के खाते खोले जा सकते हैं
अकाउंट
Account Type
निकासी
With-drawal
खाता खोलने के लिए न्यूनतम राशि
Minimum amt. to open a new account
न्यूनतम मासिक योगदान
Minimum and Maximum Monthly Contri-bution
न्यूनतम 
बार्षिक 
योगदान
Minimum
 and Maximum 
and Yearly Contri--bution
योगदान 
का
समय
Deposit 
Period
कर छूट
Tax benefit
टियर-1 अकाउंट
tier-1 Account
60 बर्ष से पहले सब्सक्राइबर केवल 25% राशि निकल सकता है
Minimum 500
500
1000
up to 60 years
Yes
(Up to 50000 per financial year)
टियर-2 अकाउंट
tier-2 Account
यहाँ से सब्सक्राइबर कभी भी पैसा निकाल सकता है.
1000
250
No Minimum Balance Required
depend
 on 
subscriber
No













1- टियर-1 अकाउंट
2- टियर -2 अकाउंट

टिअर-1 अकाउंट-
इस खाते में पहले सरकार ने 60 साल की उम्र से पहले पैसा निकालने की अनुमति नहीं दी थी. लेकिन अब नियमों में कुछ छूट प्रदान करते हुए खाताधारक इसमें जमा कुल रकम में से 25 प्रतिशत  राशि  60 साल से पहले भी निकाल सकता है. लेकिन उसके लिए NPS (National Pension System or New Pension System)   अकाउंट का तीन साल पुराना होना जरुरी है.  शेष रकम रिटायरमेंट के बाद ही पेंशन के रूप में मिलती है, अगर खाताधारक की मृत्यु हो जाए, तो समस्त रकम उसके नामनी को दे  दी जाती है. केंद्र सरकार के कर्मचारी सिर्फ टियर-1 अकाउंट के लिए ही पात्र होतें हैं.
टियर-2 अकाउंट.
इस बिल्कुल आपके बचत खाते की तरह है, इसमें से आप जब चाहे, जितनी रकम निकाल सकता है.

टैक्स छूट.
Tax benefits under NPS
टियर-1 अकाउंट में जमा राशि पर आपको टैक्स में छूट प्रदान की जाती है, आप टियर-1 अकाउंट से एक फाइनेंसियल इयर में अधिकतम 50000 तक की टैक्स छूट प्राप्त कर सकतें हैं.  जबकि टियर-2 अकाउंट में आपको किसी भी प्रकार की टैक्स छूट प्रदान नहीं की जाती है.
वर्तमान पेंशन के तहत कोई भी इसका भागीदार बन सकता है, यह मोदी सरकार की अटल पेंशन योजना जैसी ही है, जिसमे हर महीने अंशधारक को एक निश्चित रकम जमा करनी होती है,
NPS के फायदे
सुरक्षित भविष्य
NPS (National Pension System or New Pension System) का सबसे बड़ा फायदा यही है, की यह आपको अपने भविष्य के आत्मनिर्भर बनाती है. रिटायरमेंट के बाद जब आपका शरीर साथ छोड़ने लगता है, तब NPS (National Pension System or New Pension System)   आपका सहारा बन जाती है.
आसान, सुरक्षित और पारदर्शी प्रक्रिया
NPS (National Pension System or New Pension System) ज्वाइन करने का एक बेहद ही सरल, सुरक्षित और पारदर्शी तरीका है. आप आसानी से घर बैठे eNPS के पोर्टल पर जाकर इसे ज्वाइन कर सकतें हैं. NPS का डाटा ऑनलाइन है, आप कभी भी अपने NPS (National Pension System or New Pension System) खाते की पूरी जानकारी घर बैठे ही प्राप्त क्र सकते हैं, चुकी यह सरकारी योजना है, इसलिए इसमें पैसा इन्वेस्ट करना पूरी तरह से सुरक्षित है.
टैक्स लाभ
इनकम टैक्स की धारा 80CCD के तहत सब्सक्राइबर अपनी टोटल इनकम के अधिकतम 10 प्रतिशत के बराबर इन्वेस्ट करके एक फाइनेंसियल ईयर 50000 तक का टैक्स लाभ ले सकता है.

एक विडंबना यह भी
जहाँ एक ओर कोई नेता सिर्फ कुछ घंटे के लिए भी अगर किसी पद पर बैठ जाए, तो उसकी पूरी जिंदगी की जिम्मेदारी सरकार की हो जाती है, उसे पेंशन समेत तमाम तरह के भत्ते ताउम्र के लिए मिलने लगते हैं. दूसरी ओर एक सरकारी कर्मचारी अपनी पूरी जिंदगी सरकार के लिए काम करता है, फिर भी वो बुढा होने के बाद बेसहारा हो जाता है. यहाँ तक की हद तो तब हो जाती है, जब कोई नेता अलग-2 पद पर या एक ही पद पर एक से अधिक बार चुन लिया जाय तो उसे उतनी ही बार पेंशन की सुविधा मिलती है, मसलन अगर कोई नेता पहले पार्षद, विधायक और फिर सांसद बनता है तो उसे हर बार के लिए अलग-2 पेंशन मिलती है.

नेशनल पेंशन सिस्टम  क्या है?? न्यू पेंशन स्कीम कब से लागू हुई government pension plan एक यूनिफार्म सिविल पेंशन प्लान है. nps form से जुडी हर जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल में मिलेगी



Previous
Next Post »