gramin-bank-merger-rrb-merger- UP Gramin Bank का प्रायोजक बैंक होगा SBI



gramin bank merger gramin bank india rrb merger gramin bank news updates rrb merger news amalgamation of rrb rrb amalgamation 2018 gramin bank news rrb news

यूपी ग्रामीण बैंक का प्रायोजक बैंक होगा SBI

देश की आबादी के 72% ग्रामीण भारत को बैंकिंग सुविधाओं से जोड़ने वाले ग्रामीण बैंको के विलय की प्रक्रिया में अब तेजी आएगी। क्योंकि SBI और BOB में मर्जर के बाद राय बरेली स्थित बड़ौदा यू पी ग्रामीण बैंक और गुजरात के भरूच स्थित गुजरात ग्रामीण बैंक को लेकर सहमति बन चुकी है. सरकारी स्तर पर अभी यह साफ नही है, की ग्रामीण बैंको की संख्या 56 से कितनी कम होगी। लेकिन ऐसी संभावना है कि यह संख्या 30 के आस-पास रहने की संभावना है। जल्द ही केंद्रीय वित्त मंत्रालय इस पर अपना अंतिम निर्णय लेगा। जब से BOB, Dena Bank, और Vijaya Bank के विलय का फैसला सरकार ने लिया है। तभी से ग्रामीण बैंकों के मर्जर को लेकर काफी हलचल हो रही थी। आपको बता दें ग्रामीण बैंको से जुड़ी यूनियन लगातार राष्ट्रीय स्तर पर NRRB ( National Regional Rural Bank) और राज्य स्तर पर (SRRB (State Regional Rural Bank) की माँग करती आई हैं।


बड़ौदा यूपी का नया प्रयोजक होगा SBI

सूत्रों के मुताबिक और मीडिया में आई खबरों के मुताबिक़ SBI और BOB में ग्रामीण बैंको के प्रयोजक को लेकर समझौता हो गया है। इन दोनों बैंको में बड़ौदा यू पी ग्रामीण बैंक और बड़ौदा गुजरात ग्रामीण बैंक को लेकर कोई सहमति नही बन पा रही थी।
लेकिन अब इन दोनों बैंको के बीच समझौता हो गया है। नए समझौते के मुताबिक Baroda UP Gramin Bank का नया प्रयोजक बैंक SBI होगा, जबकि Gujrat Gramin Bank  पहले की तरह ही BOB के पास ही रहेगी।

राज्य सरकारों से जल्द मिलेगी NOC

आपको बता दें, ग्रामीण बैंको में 15 प्रतिशत हिस्सेदारी राज्य सरकारों की भी होती है। merger से पहले राज्य सरकार की NOC जरूरी होती है। अब जब SBI और BOB के बीच संचालन को लेकर लड़ाई खत्म हो चुकी है। अब राज्य सरकारों से भी NOC मिलने की प्रक्रिया में भी तेजी आएगी। जिससे जल्द से जल्द ग्रामीण बैंको के merger की संभावना तेज हो गई है।



ग्रामीण बैंको की स्थिति:
gramin bank merger gramin bank india rrb merger gramin bank news updates rrb merger news amalgamation of rrb rrb amalgamation 2018 gramin bank news rrb news

ग्रामीण बैंक देश के 643 जिलों में फैले हैं, इनमे केंद्र सरकार की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत, राज्य सरकार की 15 प्रतिशत तथा प्रयोजक बैंक की हिस्स्सेदारी 35 प्रतिशत होती है. ग्रामीण भारत की अर्थव्यवस्था काफी हद तक ग्रामीण बैंको पर ही निर्भर करती है. इसीलिए इनका महत्व समझते हुए सरकार और सशक्त बनाने के लिए लगातार प्रयासरत है. मर्जर भी इसी प्रक्रिया का एक हिस्सा है.

Previous
Next Post »