Pradhan Mantri Mudra Yojna NPA- RBI की समीक्षा रिपोर्ट, खतरनाक स्तर पर पहुँचा मुद्रा लोन का NPA, रिज़र्व बैंक चिंतित, 11363 करोड़ हुआ NPA


Npa-in-mudra-loan-rbi-letter-to-banks-and-finance-ministry-on-rising-npa-of-mudra-loan-mudra-loan-mudra-mudra-yojna-npa-pradhan-mantri-mudra-yojna-mudra-loan-yojna

सरकार की फ्लैगशिप योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत बाँटे गए मुद्रा लोन के NPA ने RBI की चिंता बढ़ा दी है। CNBC की जानकारी के मुताबिक रिज़र्व बैंक ने वित्त मंत्रालय और सभी बैंको को इस संबंध में पत्र लिखकर जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। RBI द्वारा वित्त मंत्रालय के अधीन आने वाले बैंकिंग डिपार्टमेंट और देश की सभी बैंको को लिखे पत्र में रिज़र्व बैंक ने मुद्रा लोन के बढ़ते NPA से निपटने के लिए तत्काल जरूरी व सख्त कदम उठाने को कहा है। रिज़र्व बैंक ने देश की बैंको से कहा है, जिन लोगो ने मुद्रा लोन की रकम को चुकाना बंद कर दिया है। उनके साथ थोड़ी मुस्तैदी दिखाते हुए उन्हें लोन चुकाने के लिए प्रेरित कीजिये। जिससे मुद्रा के होने वाले NPA से बचा जा सके।
यह भी पढ़े.. 





मुद्रा लोन पर रिज़र्व बैंक की समीक्षा रिपोर्ट..

आपको बता दें, रिज़र्व बैंक ने अपने इस पत्र के साथ एक समीक्षा रिपोर्ट भी भेजी है। जो खुद RBI ने ही तैयार की है। इस रिपोर्ट में RBI ने 2014 से अबतक मुद्रा लोन का लेखा जोखा पेश किया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक  2015-16 में मुद्रा के तहत कुल 596 करोड़ का NPA था। जो 2016-17 में बढ़कर 3790 करोड़ हो गया। और 2017-18 में यह और बढ़कर 7277 करोड़ रुपये के खतरनाक स्तर पर पहुँच गया। दरअसल मोदी सरकार अपनी फ्लैगशिप मुद्रा योजना को सफल बनाने के लिए देश की सरकारी बैंकों को तमाम तरह के टारगेट देती है। लेकिन अब RBI की इस पूरी रिपोर्ट ने मोदी सरकार की इस बड़ी फ्लैगशिप योजना पर सवालिया निशान लगा दिया है।

यह भी पढ़े.. 

1.नोटबन्दी और GST को लेकर यह कहा रघुराम राजन ने..

2.नोटबंदी फेलठीकरा बैंक कर्मियों पर!

3.मोदी सरकार की नीतियों ने बर्बाद किये सरकारी बैंक- रवि वेंकटेश 



क्या है मुद्रा योजना.?
छोटे और  मझोले उद्यम शुरू करने के लिए  साल 2015 में मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना  शुरुआत की.  के तहत लोगो को स्वरोजगार के लिए छोटे-2 लोन दिए जातें हैं. मोदी सरकार की इस योजना का मुख्य उद्देश्य स्वरोजगार को बढ़ाबा देना था. लेकिन मात्र 3 सालों में मोदी सरकार की फ्लैगशिप योजना का दिवाला निकल गया है. अब मोदी सरकार की  योजना बैंकिंग सेक्टर के लिए मुसीबत बनती जा  रही है. जहाँ एक तरफ सरकार चुनावी फायदे के लिए बैंको पर  ज्यादा से ज्यादा मुद्रा लोन करने का दबाव बना रही है. वही दूसरी तरफ इन लोन्स के NPA होने के लिए बैंक कर्मियों को दोषी ठहराने शुरुआत हो चुकी है. मुद्रा लोन के NPA होने की प्रमुख वजह यह भी है, की यह लोन बिना किसी गारंटी के दिया जाता है.
यह भी पढ़े.. 






Npa-in-mudra-loan-rbi-letter-to-banks-and-finance-ministry-on-rising-npa-of-mudra-loan-mudra-loan-mudra-mudra-yojna-npa-pradhan-mantri-mudra-yojna-mudra-loan-yojna


Previous
Next Post »