Gramin Bank Strike 8th and 9th jan 2019-पेंशन को लेकर 8 और 9 जनवरी को ग्रामीण बैंको के कर्मचारी फिर हड़ताल पर.नवरी को ग्रामीण बैंको के कर्मचारी फिर हड़ताल पर.


gramin bank strike 8th and 9th jan 2019 up gramin bank grameena bank bank strike bank strike news aibea aiba banks bank banking news-important banking news latest banking news banking news

पेंशन को लेकर 8 और 9 जनवरी को ग्रामीण बैंको के कर्मचारी फिर हड़ताल पर.नवरी को ग्रामीण बैंको के कर्मचारी फिर हड़ताल पर.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाबजूद पेंशन पर सरकार की सिर्फ खानापूरी किये जाने से नाराज़ ग्रामीण बैंक कर्मी 8 9 जनवरी को हड़ताल पर रहेंगें.
देश भर में 56 ग्रामीण बैंको की कुल लगभग 22000 शाखाओं के 90000 हज़ार से ज्यादा ग्रामीण बैंक कर्मचारियों ने दिनाँक 8 9 जनवरी को हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। ग्रामीण बैंक कर्मी, ग्रामीण बैंको की सबसे बड़ी यूनियन AIRRBEA के आवाहन पर अपनी भिविन्न माँगो जैसे पेंशन आर्डर की खामियों को दूर करने आदि को लेकर दो दिवसीय हड़ताल पर जा रहें हैं।

ग्रामीण बैंक कर्मियों की प्रमुख माँगे.
1- पेंशन आर्डर की सभी विसंगतियों को दूर करके 25 अप्रैल 2018 तक के सभी कर्मचारियों को इसके दायरे में लाया जाए।
2- सभी डेली-वेज वर्कर्स को स्थायी किया जाए।
3- कमर्शियल बैंको और ग्रामीण बैंको के निजीकरण को तत्काल रोक जाए।
4- ग्रामीण बैंको में रिक्त वेकैंसियों को तत्काल भरा जाए।
5- प्रोमोशन के नियम सरल करके, सभी कर्मियों के समय से प्रोमोशन किया जाए, जिससे ग्राहकों को सुचारू सर्विस मिल सके।
6-11th BPS को यूनियन की माँगो के अनुसार लागू किया जाए.

यह भी पढ़े.. 

लंबे समय से लटकी थी ग्रामीण बैंक कर्मियों की पेंशन

सरकार चाहे, किसी की भी रही हो, Gramin Bank कर्मियों के साथ सभी ने सौतेला व्यवहार किया है। पेंशन के मामले में भी सरकारो द्वारा लगातार ग्रामीण बैंक कर्मियों के सौतेला व्यवहार होता रहा। सरकार अलग-2 वाहने करके ग्रामीण बैंक कर्मियों की पेंशन लटकाती रही।
गौरतलब है, देश भर में मौजूद कुल 56 ग्रामीण बैंको में से सिर्फ 7 ग्रामीण बैंक ही घाटे में हैं. बाकि के 49 ग्रामीण बैंक फायदे में हैं. जिनमे से कर्नाटका विकास ग्रामीण बैंक और आंध्र प्रगति ग्रामीण बैंक का प्रॉफिट 150 करोड़ से भी ज्यादा है.  फिर भी सरकार लगातार ग्रामीण बैंको को घाटे में बताती आ रही है. और इसी आधार पर पेंशन देने से मना कर रही थी.

यह भी पढ़े.. 
1.नोटबन्दी और GST को लेकर यह कहा रघुराम राजन ने..
2.नोटबंदी फेलठीकरा बैंक कर्मियों पर!
3. मोदी सरकार की नीतियों ने बर्बाद किये सरकारी बैंक- रवि वेंकटेश 

असली भारत के सच्चे सेवक हैं, ग्रामीण बैंक कर्मचारी
यहाँ ध्यान देने योग्य बात यह भी है, की ग्रामीण बैंको की 95 प्रतिशत शाखाये ऐसे इलाको में हैं. जहाँ असली भारत बसता है. जिन गरीब, बंचित, शोषित समाज को, आज के बाजारू दौर में इंसान भी नहीं समझा जाता, ग्रामीण बैंक उन्हीं लोगो के लिए काम करते हैं.  भारत की एक सच्चाई यह भी है, की तमाम बाजारबाद व् उपभोक्तावाद के बाद भी भारत की 70 प्रतिशत आबादी आज भी गाँव में ही बसती है. जहाँ एक तरफ सरकारें लगातार ग्रामीण बैंको की अनदेखी करती आयी हैं. वहीं दूसरी तरफ सरकारें अपनी अधिकतर वित्तीय योजनाओ को रुट लेवल पर लागू करने की जिम्मेदारी, ग्रामीण बैंको को ही सौपती आयी हैं. और ग्रामीण बैंको ने हमेशा अच्छे परिणाम दिए हैं.  प्रायॉरिटी सेक्टर लेंडिंग में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी ग्रामीण बैंको की ही है.


8 और 9 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल


ट्रेड यूनियन की ओर से 8 और 9 जनवरी को हड़ताल रहेगी, जिसमें बैंक कर्मचारी भी शामिल होंगे। इंटक जिलाध्यक्ष विद्यासागर शर्मा ने बताया कि कामगारों की सुविधाओं और श्रम कानूनों में बदलाव के विरोध में हड़ताल की जा रही है। सबसे अधिक असर बैंकों में रहेगा, क्योंकि ग्रामीण बैंक भी इसमें शामिल हो रहे हैं। 



यह भी पढ़े.. 





gramin bank strike 8th and 9th jan 2019 up gramin bank grameena bank bank strike bank strike news aibea aiba banks bank banking news-important banking news latest banking news banking news

Previous
Next Post »