घर आने के बाद, नहीं होगी ऑफिस के मेल और फ़ोन का जबाब देने की मज़बूरी, लोकसभा में पेश हुआ, "Right To Disconnect Bill"


Right-to-disconnect-private-members-bill-to-allow-employees-to-ignore-calls-after-work- Right-to-disconnect-hindi-Right-to-disconnect


घर आने के बाद, नहीं होगी ऑफिस के मेल और फ़ोन का जबाब देने की मज़बूरी, लोकसभा में पेश हुआ, "Right To Disconnect Bill"

अगर आप नौकरी करतें हैं, तो ऑफिस से घर आने के बाद ऑफिस से आयी कॉल्स और मेल आपको जरूर परेशान करतें होंगे। लेकिन अब आपको ऑफिस टाइम से बाद आने वाली इन कॉल्स और मेल से मुक्ति मिल सकतीं हैं. "Right To Disconnect Bill" पास होने के बाद, आप ऑफिस टाइम के बाद आने वाली कॉल्स को डिसकनेक्ट कर सकतें हैं.. और इसके लिए आप पर कोई कार्यवाही भी नहीं हो सकेगी। इस बिल में कर्मचारियों को यह अधिकार देने की बात कही गई है.

सांसद सुप्रिया सुले पेश किया प्राइवेट बिल..

एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने लोकसभा में यह बिल, "प्राइवेट बिल" के रूप में पेश किया है. इस में प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले लोगो के अधिकारों की बात की गई है. इस बिल में कर्मचारियों को यह अधिकार दिया गया है. की वो ऑफिस से घर आने के बाद आने वाली ऑफिसियल कॉल्स को अटेंड करने के लिए मज़बूर नहीं होंगे।



यह भी पढ़े.. 
3ग्रामीण बैंको में भी अनुकंपा नियुक्ति बहाल

काम की वजह से, डिस्टर्ब नहीं होगी,पर्सनल लाइफ।



नौकरी करने वाले लोगो की लाइफ कई बार उनकी जॉब की वजह से डिस्टर्ब हो जाती है. जॉब के प्रेशर की वजह से वो अक्सर तनाव में रहते हैं. जिससे वो अपने परिवार को जरूरी टाइम नहीं दे पाते। और कई बार इसी वजह से लोगो के रिश्ते बिखर जातें हैं. कई बार तो लोग काम के अत्यधिक बोझ और पर्सनल लाइफ में डिस्बैलेंस की वजह से आत्महत्या जैसा भयानक कदम भी उठा लेते हैं.


.
बिल पास होने के बाद कम्पनियाँ नहीं लाद सकेंगी ज्यादा काम.

एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने बताया, "इस बिल को संसद से पास होने के बाद कोई कंपनी अपने कर्मचारियों पर काम का ज्यादा बोझ नहीं लाद सकेगी। और कर्मचारी भी अनावश्यक तनाव से दूर रहेंगे। यह बिल अभी लोकसभा में पेश हुआ है. लोकसभा से पास होने के बाद यह बिल राजयसभा में जाएगा। और वहां से भी पास होने के बाद यह कानून बन जाएगा। 
यह भी पढ़े.. 
1.नोटबन्दी और GST को लेकर यह कहा रघुराम राजन ने..
2.नोटबंदी फेलठीकरा बैंक कर्मियों पर!
3.मोदी सरकार की नीतियों ने बर्बाद किये सरकारी बैंक- रवि वेंकटेश 


फ्रांस में पहले से कानून, जर्मनी में बनाने की तैयारी

आपको बता दें, फ्रांस में पहले ही इस तरह का कानून है. फ्रांस में यह कानून वहाँ की सुप्रीम कोर्ट ने बनाया है. जर्मनी में भी ऐसा ही कानून बनाने की बात चल रही रही है. इसके अलाबा अमेरिका में भी ऐसा  ही कानून बनाने की चर्चा चल रही है. यह बिल पास होने के बाद कोई भी कम्पनी अपने कर्मचारियों को ऑफिस  टाइम के बाद कॉल ना उठाने के लिए कार्यवाही नहीं कर पाएगी।

यह भी पढ़े.. 


Previous
Next Post »